प्रेमचंद की इस कहानी को जरूर पढ़े – Premchand Story In Hindi

1
855
Premchand Story In Hindi
Premchand Story In Hindi

Premchand Story In Hindi


हेलो दोस्तों आज की इस पोस्ट में मैं आप सबसे Premchand की कहानी शेयर करने वाला हूँ, अगर आप पढ़ना चाहते हैं तो आप इसे पूरा पढ़ सकते हैं.


🌹परेमचंद की प्रसिद्ध कहानी “ईदगाह” का काव्य रूपांतरण🌹

चाँद की रात मसर्रत है सभी के दिल में
ईद है सुब्ह अमीना पड़ी है मुश्किल में

कल वो हामिद को नया वस्त्र दिलाये कैसे
सब की मानिंद वो भी जश्न मनाए कैसे

आया दिन ईद का हामिद भी चला है सजकर
पांव में जूते नहीं टोपी फटी है सिर पर

हाथ में तीन ही पैसे का खज़ाना है बस
ईद का जश्न इसी में ही मनाना है बस

दिल में आया कि कोई खास खिलौना ले ले
खूब सुंदर से लगे झूले में वो भी झूले

याद आई है मगर हाथ जलाती दादी
उसकी रोटी को तवे पर वो पकाती दादी

ले लिया चिमटा सभी शौक को क़ुरबान किया
अपनी दादी को खुशी का बड़ा इनआम दिया

अश्क आंखों में लिए प्यार से चूमा उसको
उसकी दादी ने दिया प्यार का तोहफ़ा उसको


Shivratri Poem In Hindi

विभत्स हूँ… विभोर हूँ…
मैं समाधी में ही चूर हूँ…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*

घनघोर अँधेरा ओढ़ के…
मैं जन जीवन से दूर हूँ…
श्मशान में हूँ नाचता…
मैं मृत्यु का ग़ुरूर हूँ…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*

साम – दाम तुम्हीं रखो…
मैं दंड में सम्पूर्ण हूँ…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*

चीर आया चरम में…
मार आया “मैं” को मैं…
“मैं” , “मैं” नहीं…
”मैं” भय नहीं…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*

जो सिर्फ तू है सोचता…
केवल वो मैं नहीं…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*

मैं काल का कपाल हूँ…
मैं मूल की चिंघाड़ हूँ…
मैं मग्न…मैं चिर मग्न हूँ…
मैं एकांत में उजाड़ हूँ…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*

मैं आग हूँ…
मैं राख हूँ…
मैं पवित्र राष हूँ…
मैं पंख हूँ…
मैं श्वाश हूँ…
मैं ही हाड़ माँस हूँ…
मैं ही आदि अनन्त हूँ…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*

मुझमें कोई छल नहीं…
तेरा कोई कल नहीं…
मौत के ही गर्भ में…
ज़िंदगी के पास हूँ…
अंधकार का आकार हूँ…
प्रकाश का मैं प्रकार हूँ…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*

मैं कल नहीं मैं काल हूँ…
वैकुण्ठ या पाताल नहीं…
मैं मोक्ष का भी सार हूँ…
मैं पवित्र रोष हूँ…
मैं ही तो अघोर हूँ…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*


Final Word

दोस्तों उम्मीद हैं आपको ये पसंद आया होगा, और अगर पसंद आया होगा तो अपने दोस्तों को जरूर शेयर करना और हमे कमेंट करके जरूर बताये!!

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here