जख्मी हालत में IPS का Exam दिया – IPS Success Story In Hindi

2
340
IPS Success Story In Hindi

IPS Success Story In Hindi


IPS Success Story In Hindi- हेलो दोस्तों आज की इस पोस्ट में मैं आपसे एक IPS की एक सफलता की कहानी शेयर करने वाला हूँ, तो आप इस कहानी को पढ़ कर Inspire और motivate हो सकते हैं.


IPS Success Story In Hindi

केवल 22 वर्ष की उम्र में 570 रैंक हासिल करके IPS आफिसर बनने वाले Safin Husan जी की प्रेरणादायक कहानी एक बार जरूर पढ़ें

Safin Husan जी ने बताया जब मैं स्कूल में था तब मैंने एक कलेक्टर सर को देखा जब वे आये तो सभी लोगों का ध्यान उन पर चला गया उसके आने से प्रोग्राम में एक Attention आ गया उस वक़्त मैंने किसी बड़े से पूछा आखिर ये कौन है तब मुझे पता चला कलेक्टर मतलब पूरे जिले के राजा इसलिए इन्हें इतना सम्मान दिया जाता है उसी वक़्त मैंने डिसाइड कर लिया थाकी मैं भी बनूँगा

बचपन मे माता पिता मजदूरी का काम करते थे उस वक़्त मुझे लगा मुझे इतना काबिल बनना चाहिए कि मेरे माता पिता को ये सब न करना पड़े, पिता जी बिजली मिस्त्री का काम करते थे और ठंड के दिनों में पिता जी चाय का ठेला लगाते थे जिसमें मैं भी उनकी मदद करता था माता जी भी बाद में शदियों में रोटियां बनाने का काम किया करती थी

ने का जुनून नहीं होती तो माजो बचपन मे मेरे सभी दोस्तों के पास साईकल थी मेरे पास नहीं थी मुझे थोड़ा बुरा भी लगता था लेकिन इन्हीं खराब परिस्थितियों को देख कर मेरे अंदर कुछ करने का जुनून आता चला गया अगर मेरे – जीवन मे ये सब खराब परिस्थिति नहीं होती तो मेरा UPSC Exam देने का मोटिवेसन भी इतना स्ट्रांग नहीं हो पाता “जो भी होता है अच्छे के लिए होता है” मैं इसमें Strongly Believe करता हूँ

IPS Success Story In Hindi
IPS Success Story In Hindi

IAS Success Story In Hindi

अपनी शुरूआती पढ़ाई मैंने अपने गांव में ही कि 11th और 12th मैंने एक प्राइवेट स्कूल से किया जिसका ख़र्च निकालने के लिए माता आंगनबाड़ी में काम किया करती थी, पापा एक बात कहते थे जीवन मे कोई काम अटकेगा नहीं अगर आप उसे पूरी नेकी और ईमानदारी के साथ कर रहे हैं तो, जैसे ही मैं दिल्ली आया मैंने खुद से कहा 1st attempt को ही फाइनल Attempt बनाना है

जब मैं Mains की Exam के लिए जा रहा था उस वक़्त मेरा Accident हो गया था मेरे सर से खून बह रहा था और मेरा एक हाथ भी काम नहीं कर रहा था, हड्डी भी टूट गई थी उसके बाद मैंने देखा मेरा Right वाला हाथ सही है मैं घर या अस्पताल जाने की वजाए उसी हाल में परीक्षा देने गया और मैंने एग्जाम दी उसके बाद डॉक्टर ने मुझे 1.5 महीने रेस्ट करने को कहा

Safin Husan जी ने आचार्य चाणक्य की एक सीख समझाई राजा धनानंद की बेटी से चंद्रगुप्त मौर्य को प्यार हो जाता है जब आचार्य चाणक्य को यह पता चलता है तो वह चंद्रगुप्त से कहते है – तुम्हें उससे दूर रहना है, चंद्रगुप्त उदास होकर चाणक्य से कहते है आचार्य, अगर भारत का सम्राट बनने के लिए इतना त्याग ना देना पड़ता तो ? आचार चाणक्य कहते है अगर इतना त्याग नहीं देना पड़ता तो आज हर व्यक्ति भारत का सम्राट बन कर बैठा होता, त्याग और मेहनत नहीं लगती तो आज हर कोई IAS , IPS होता

IPS Success Story In Hindi

Safin Husan जी ने कहा मैं कभी भी अपने जीवन की किसी परिस्थिति को खराब नहीं मानता क्योंकि अगर ये सारी परिस्थिति नहीं आई होती तो IPS बनने के रास्ते भी नहीं बनते, दोस्तों याद रखना अभी अगर आपके जीवन मे खराब परिस्थिति है तो यह खराब परिस्थिति आपको एक नए रास्ते में लेकर आई है जिस पर चलने से आपको अंत मे एक खूबसूरत मंज़िल मिलेगी इतनी मेहनत करो कि आप भी पहली ही बार मे IAS, IPS बन पाओ .

दोस्तों अगर इस पोस्ट से आपकी थोड़ी भी मदद हुई हो तो इसे शेयर जरुर करें आपके एक शेयर करने से बहुत सारे Student की मदद होगी, आप बहुत सारी बिना मतलब की चीज़ों को शेयर करते है लेकिन ऐसी काम की पोस्ट भी शेयर किया करें ताकि ऐसी पोस्ट पढ़ कर आपकी वजह से किसी student के जीवन मे बदलाव आ सके निवदेन है इस पोस्ट को जितना हो सके शेयर करें आपके एक शेयर से किसी का जीवन बदल सकता है .

IPS Success Story In Hindi


Final Word Of IPS Success Story In Hindi

दोस्तों उम्मीद हैं आपको ये पोस्ट अच्छा लगा होगा अच्छा लगा हो तो कमेंट करके जरूर बताये, और पसंद आया हो तो अपने दोस्तों से जरूर शेयर करे..!!

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here