माँ पर कविताये – Best Poems on Mom in Hindi

0
390
Best Poems on Mom in Hindi
Best Poems on Mom in Hindi

Best Poems on Mom in Hindi 

हेलो दोस्तों कैसे हो आप सब उम्मीद हैं आप सब ठीक होंगे, तो आज की इस पोस्ट में मैं माँ के बारे में कुछ शेयर किया हूँ और ये एक कविता हैं, तो उम्मीद हैं आप इसे जरूर पढोगे


I love you Mom and it dedicates to all mother.

माँ जिधर भी नज़र उठाती है
वो ज़मीं हँसती मुस्कुराती है

हर बला दूर ही ठहर जाए
माँ उसे डांट जब लगाती है 

माँ के कदमों से दूर जाए जो
ज़िन्दगी फिर उसे रुलाती है 

पास जब मौत आए बच्चों के
तब तो माँ जां पे खेल जाती है 

जब कभी भूल हमसे हो जाए
माँ ही दामन में तब छुपाती है 

भूख के साये में न हों बच्चे
खुद को माँ धूप में सुखाती है 

मुस्कुराहट बनी रहे घर में
घर के सब बोझ माँ उठाती है 

चैन की नींद वो ही सो पाए
माँ जिसे लोरियाँ सुनाती है 

मां के दामन में सिर्फ प्यार भरा
प्यार ही प्यार वो लुटाती है 

चोट खाता क़मर कहीं भी जब
लब पे तब सिर्फ़ माँ ही आती है

— क़मर जौनपुरी


Hindi Poem on Mother

बाजुओं में खींच के आ जायेगी जैसे क़ायनात
अपने बच्चे के लिए ऐसे बाहें फैलाती है माँ…

ज़िन्दगी के सफ़र मै गर्दिशों में धुप में
जब कोई साया नहीं मिलता तब बहुत याद आती है माँ..

प्यार कहते हैं किसे, और ममता क्या चीज़ है,
कोई उन बच्चों से पूछे जिनकी मर जाती है माँ…

सफा-ए- हस्ती पे लिखती है, असूल-ए- ज़िन्दगी,
इसलिए तो मक़सद-ए- इस्लाम कहलाती है माँ..

जब ज़िगर परदेस जाता है ए नूर-ए- नज़र,
कुरान लेकर सर पे आ जाती है माँ..

लेके ज़मानत में रज़ा-ए- पाक की,

पीछे पीछे सर झुकाए दूर तक जाती है माँ…

काँपती आवाज़ में कहती है बेटा अलविदा…
सामने जब तक रहे हाथों को लहराती है माँ..

जब परेशानी में फँस जाते हैं हम परदेस में,
आंसुओं को पोंछने ख्वाबों में आ जाती है माँ..

मरते दम तक आ सका न बच्चा घर परदेस से,
अपनी सारी दुआएं चौखट पे छोड़ जाती है माँ..

बाद मरने के बेटे की खिदमत के लिए,

रूप बेटी का बदल के घर में आ जाती है माँ….I LOVE YOU माँ…


Final Word

दोस्तों उम्मीद हैं आपको ये पसंद आया होगा, और अगर पसंद आया होगा तो अपने दोस्तों को जरूर शेयर करना और हमे कमेंट करके जरूर बताये!!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here