Army की ये कविता आपको रुला देगी – Army Sad Poetry In Hindi

1
2208
Army Sad Poetry In Hindi
Army Sad Poetry In Hindi

Army Sad Poetry In Hindi


Army Sad Poetry In Hindi:-  हेल्लो दोस्तों आज की इस पोस्ट में मैं आप सबसे Hindi Army Sad Poetry शेयर कर रहा हूँ, दोस्तों इस poetry को पढ़ने के बाद आपकी आँखों में आसूं जरूर आएगा इस Hindi Army Poetry की सारी बातें एक दम  सच हैं आपको पढ़ने के बाद ehsas होगा की हां ये सभी बातें सच हैं

आप सब जानते हैं की Army  के जवान हमारी रक्षा के लिए बॉर्डर में बहुत मेहनत करते हैं और उन्ही जवान में कोई एक जवान शहीद हो जाता हैं तो उसके घर पे क्या बीतती होगी, उनके परिवार में जो बीतता होगा उसी को इस Army Sad Poetry In Hindi में बताया हूँ पूरा पढ़ना।!


Hindi Army Poetry 

चमक रहा था तिरंगा जिसके घर की दीवारों पर, लिख दिया नाम बेईमानों ने उसका हथियारों पर।

मेंहदी भी न उतरी जिसकी उस पर जो बीत रहा होगा, मांगता हूँ दुआ, ये सब जल्दी बीते उन कातिलों के परिवारों पर।।

माँ ने उसकी अब तक खाना नहीं खाया होगा, हूँ मैं जीवित भाई ने बड़े जतनों से समझाया होगा।

छोटी बहन को मिलने का इन्तज़ार भैया दूज का था, लेकिन पापी दारोगा प्यासा बेचारे के खून का था।।

कैसे झिलमिल होगी दीवारें घर की दीपोत्सव के त्योहारों पर, मांगता हूँ दुआ, ये सब जल्दी बीते उन कातिलों के परिवारों पर।।

उसके शव को किस हक से तुमने जला दिया, जिसका भाई था सैनिक उसे अपराधी बता दिया।

सब रिश्वतखोर और बेईमान एक दूसरे से मिले हुये हैं, लेकर जान मासूम की भ्रष्टाचारी को बचाने में लगे हुये हैं।

जाने क्यों सरकार मेहरबान है उन दिमागी बीमारों पर, मांगता हूँ दुआ, ये सब जल्दी बीते उन कातिलों के परिवारों पर।।

रिश्वत न मिलने की खातिर उस मासूम को मार दिया, बिना किसी गुनाह के उसका बसा हुआ घर उजाड़ दिया।

एक माँ से बेटा छीनने वाले तुझे नर्क भी नसीब नहीं होगा, जब आयेगी मौत तेरी तब पानी देने वाला भी करीब नहीं होगा।

हे मेरे प्रभु बिल्कुल रहम न करना मासूम के हत्यारों पर, मांगता हूँ दुआ, ये सब जल्दी बीते उन कातिलों के परिवारों पर।।


Army Sad Poetry In Hindi:- दोस्तों उम्मीद हैं आपको पसंद आई होगी अगर पसंद आई हो तो हमे कमेंट करके जरूर बताये और अपने दोस्तों से जरूर शेयर करे…!! दोस्तों हम नीचे आपको कुछ Hindi Army Shayari  शेयर कर रहा हूँ एक बार जरूर पढ़े

Army Shayari In Hindi
Army Shayari In Hindi

Army Shayari In Hindi 

(1)

चढ़ गये जो हंसकर सूली, खाई जिन्होंने सीने पर गोली, हम उनको प्रणाम करते हैं। जो मिट गये देश पर, हम सब उनको सलाम करते हैं…

(2)

 दे सलामी इस तिरंगे को जिस से तेरी शान है,
सिर हमेशा ऊँचा रखना इसका जब तक दिल में जान है….

(3)

अपना घर छोड़ कर, सरहद को अपना ठिकाना बना लिया,
जान हथेली पर रखकर, देश की हिफाजत को अपना धर्म बना लिया

(4)

मेरे जज्बातों से मेरा कलम इस कदर वाकिफ हो जाता हैं, मैं इश्क भी लिखना चाहूँ तो इन्कलाब लिखा जाता हैं….

(5)

नींद उड़ गयी यह सोच कर, हमने क्या किया देश के लिए,
आज फिर सरहद पर बहा हैं खून मेरी नींद के लिए…..

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here